कड़ेपन की समस्याएं क्या हैं?

कड़ेपन की समस्याएं क्या हैं?

कड़ेपन की समस्याएं क्या हैं?

About Dr.Girish

Urologist, Blogger

अवलोकन

जब पुरुष यौन रूप पर उत्तेजित हो जाते हैं तो हार्मोन्स, मांसपेशियां, नसें, और रक्त वाहिकायें आदि सभी एक साथ मिलकर कड़ेपन को बनाने के लिए कार्य करते हैं. मस्तिष्क से लिंग को भेजे गए तंत्रिका सिग्नल, मांसपेशियों को आराम करने की सलाह देते हैं. जिसके चलते, लिंग के ऊतकों में रक्त प्रवाह बढ़ जाता है. एक बार जब रक्त लिंग को भर देता है और लिंग कड़ा हो होता है, उसके बाद लिंग की रक्त वाहिकायें बंद हो जाती हैं ताकि कड़ापन बना रहे. यौन उत्तेजना के बाद, लिंग फिर से नसों को खोल देता है, जिससे रक्त लिंग से निकल जाता है.

कोई भी व्यक्ति के किसी बिंदु पर, कड़ेपन को प्राप्त करने या बनाए रखने में कठिनाई को महसूस कर सकता है. कड़ेपन की समस्याएं तब होती हैं जब आप यौन संभोग करने के लिए पर्याप्त रूप से अपने लिंग को कड़ा नहीं कर पाते हैं या फिर कड़ेपन को बरक़रार नहीं रख पाते हैं. ज्यादातर पुरुषों में, यह समस्या कभी-कभी होती है और यह एक गंभीर मुद्दा नहीं होता है. हालांकि, यदि आप एक चौथाई समय या उससे अधिक के लिए अपने लिंग को कड़ा नहीं कर पा रहे हैं, तो आपको स्वास्थ्य समस्या हो सकती है जिसमें चिकित्सकीय मदद की आवश्यकता होती है. कड़ेपन की समस्याओं को इस प्रकार से भी जाना जाता है:

● इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी)

● नपुंसकता

● यौन रोग

खड़ेपन की समस्याओं के सामान्य कारण क्या हैं?

What are the common causes

ईडी के कारण भौतिक, मनोवैज्ञानिक, या दोनों प्रकार के संयोजन हो सकते हैं. वृद्ध पुरुषों में ईडी के भौतिक कारण अधिक आम हैं. वे विकारों के कारण होते हैं जो निर्माण के कारण जिम्मेदार नसों और रक्त वाहिकाओं को प्रभावित कर सकते हैं.

कड़ेपन की समस्या के शारीरिक कारणों में शामिल हैं:

दिल की बीमारी

● धमनियों का अकड़ना

● उच्च रक्त चाप

● मधुमेह

● मोटापा

● उच्च कोलेस्ट्रॉल

● पार्किंसंस रोग

● मल्टीपल स्कलेटोसिस

● पेरोनी रोग

● कुछ दवाएं, जिनमें मूत्रवर्धक, बीटा ब्लॉकर्स, मसल्स रिलैक्सर, या एंटीड्रिप्रेसेंट आदि शामिल हैं

● शराब या गलत पदार्थों का उपयोग

● तम्बाकू का बहुत ज्यादा उपयोग

● रीढ़ की हड्डी या जननांग क्षेत्र में आघात या चोट

● जन्मजात जननांग समस्याएं

● यकृत या गुर्दे की बीमारी

● प्रोस्टेट समस्याओं के लिए उपचार

मन की समस्याओं के कारण भी कड़ेपन की समस्याएं हो सकती हैं. भावनात्मक कारण किसी भी उम्र के व्यक्ति को उत्तेजित होने से रोक सकते हैं, और इसमें शामिल हैं:

● चिंता करना कि आपका लिंग सम्भोग के दौरान खड़ा नहीं होगा या फिर टिकेगा नहीं

● आर्थिक, कार्यालय, या अन्य सामाजिक मुद्दों से संबंधित मुद्दों से होने वाला तनाव

● पारस्परिक सम्बन्धों में संघर्ष या मनमुटाव

● डिप्रेशन

युवा पुरुषों में कड़ेपन की समस्याएं

२० से ३० वर्ष के पुरुष भी कड़ेपन की समस्याओं का अनुभव कर सकते हैं. आंकड़ों के अनुसार पहले की तुलना में अब युवा पुरुषों में कड़ेपन की समस्याओं में अधिक वृद्धि हुई है. द जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन की रिपोर्ट है कि १७ से ४० वर्ष के पुरुषों में से २६ प्रतिशत लोगों को कड़ेपन की समस्या होती है. ये मामले मध्यम स्तर से गंभीर तक हो सकते हैं.

शोध में कहा गया है कि युवा पुरुषों में खड़ेपन की समस्याएं शारीरिक कमी की बजाय उनकी जीवनशैली और मनोवैज्ञानिक कारणों से अधिक होती हैं. ऐसा भी पाया गया है कि वृद्ध पुरुषों की तुलना में युवा पुरुष अधिक तम्बाकू, शराब और दवाओं आदि का सेवन करते हैं. ब्रिटिश गर्भावस्था सलाहकार सेवा से पता चलता है कि युवा पुरुषों में कड़ेपन की समस्या अक्सर चिंता से उत्पन्न होती है.

कड़ेपन की समस्याओं की जांच कैसे की जाती है?

अपनी कड़ेपन की समस्याओं के कारणों को सटीक रूप से ढूंढने के लिए, आपका डॉक्टर विभिन्न परीक्षणों का आदेश दे सकता है जिनमें निम्न शामिल हैं:

● कम्पलीट ब्लड काउंट (सीबीसी), जो रक्त परीक्षण का एक सेट है जिसमे कम ब्लड सेल काउंट की जांच की जाती है

● हार्मोन प्रोफाइल, जो यौन हार्मोन के स्तर को मापता है (टेस्टोस्टेरोन और प्रोलैक्टिन)

● नॉक्टरनल पेनाइल ट्यूमेसिंस (एनपीटी), जो नींद के दौरान आपके कड़ेपन को मापता है

● डुप्लेक्स अल्ट्रासाउंड, जो शरीर के ऊतकों की तस्वीरें लेने के लिए उच्च आवृत्ति ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है

● मूत्र की जांच, इसमें मूत्र में प्रोटीन और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को मापा जाता है

एक बार आपका डॉक्टर आपके कड़ेपन की समस्या का कारण निर्धारित कर ले उसके बाद वे उचित उपचार प्रदान कर पायेंगे.

संभावित जटिलतायें क्या हैं?

कड़ेपन की समस्याओं के साथ आने वाली जटिलताएँ बहुत ही नकारात्मक होती हैं और वे आपके जीवन की गुणवत्ता को भी प्रभावित कर सकती हैं. यदि आप कड़ेपन की समस्याओं का अनुभव करते हैं, तो आप इनका भी अनुभव कर सकते हैं:

● तनाव या चिंता

● शर्मिंदगी

● कम आत्म सम्मान की भावना

● रिश्ते की समस्याएं

● अपने यौन जीवन से असंतोष

आपको अपने डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए?

यदि आपकी कड़ेपन की समस्या समय के साथ बदतर हो जाती है, तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए. यदि किसी चोट या प्रोस्टेट सर्जरी के बाद कड़ेपन की समस्याएं विकसित होती हैं या स्थिति खराब होती है तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए. यदि आप पीठ के निचले हिस्से में दर्द या पेट दर्द के साथ कड़ेपन की समस्या का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लें.

एक डॉक्टर से पूछो

यदि आपको लगता है कि किसी नई दवा से समस्या पैदा हो रही है तो अपने डॉक्टर से उस सन्दर्भ में भी बात करनी चाहिए. दवा केवल डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही ली जानी चाहिए.

आप कड़ेपन की समस्याओं को कैसे रोक सकते हैं?

कड़ेपन की समस्याओं को रोकने के लिए, स्वस्थ जीवनशैली को अपनाएँ. इनमें शामिल हैं:

● स्वस्थ आहार बनाए रखना

● चीज़ों में संतुलन बनाना

● नियमित व्यायाम

ईडी रक्त प्रवाह की कमी के कारण होता है. इसलिए इसकी रोकथाम में आपका अच्छा स्वास्थ्य महत्वपूर्ण हो जाता है. रक्त प्रवाह में सुधार करने का एक आम तरीका व्यायाम होता है. कुछ कार्डियो-आधारित अभ्यासों में शामिल हैं: दौड़ना, साइकिल चलाना, तैराकी, और एरोबिक्स.

उचित आहार जिसमे वसा, अतिरिक्त चीनी, और उच्च नमक की मात्रा न हो वह भी महत्वपूर्ण हो सकता है.

मधुमेह या हृदय रोग जैसी पुरानी स्वास्थ्य समस्याएं, कड़ेपन की समस्याओं का कारण हो सकती हैं. इस समस्या के एक और अन्य कारण में आपकी दवायें भी हो सकती हैं. यदि आप इन बीमारियां से परेशान हैं तो आपको इनकी रोकथाम के अन्य तरीकों के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए.

मानसिक स्वास्थ्य की समस्याएं, अल्कोहल या ड्रग्स आदि के लिए आपको चिकित्सकीय मदद की आवश्कता हो सकती है. तनाव या मनोवैज्ञानिक मुद्दों को भी ईडी के कारणों में माना जाता है.

महत्वपूर्ण दृष्टिकोण

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ईडी एक आम समस्या है और सभी उम्र के पुरुषों में हो सकती है. हालांकि ईडी से आपको ख़राब अनुभव हो सकता है, लेकिन इसके प्रभावी उपचार उपलब्ध हैं. आवर्ती समस्याओं के कुछ चेतावनी संकेतों पर ध्यान दें. यदि ईडी से आप अक्सर परेशान रहते हैं तो अपने डॉक्टर से मुलाकात करें. आपका डॉक्टर आपको संभावित उपचारों के बारे में बता सकता है.

स्रोत:https://www.healthline.com/health/erection-problems

कड़ेपन की समस्याएं क्या हैं?
3 (60%) 5 votes

Related Posts

यौन बाध्यता (लत) को कैसे कम किया जाए

यौन बाध्यता (लत) को कैसे कम किया जाए

सेक्स – अगर वह आपसी सहमति से हो तो स्वाभाविक और खूबसूरत होता है और उसमें कोई समस्या न होती।
सेक्स से अधिकतम आनंद कैसे प्राप्त करें

सेक्स से अधिकतम आनंद कैसे प्राप्त करें

सेक्स प्राकृतिक है लेकिन उतना सहज नहीं है जितना लगता है। यह नज़दीकी लिंग के योनि में भेदन और उसे
लिंग के आकार को बढ़ाने का एकमात्र वास्तविक तरीका

लिंग के आकार को बढ़ाने का एकमात्र वास्तविक तरीका

क्या हम बात कर सकते हैं? चलो खुल कर बात करते हैं: आकार मायने रखता है और हम सब इस
लिंग का सामान्य साइज़ क्या होता है?

लिंग का सामान्य साइज़ क्या होता है?

परिचय। यह एक ऐसा विषय है जिस पर हर आदमी ने कभी न कभी विचार जरूर किया होगा: लिंग का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *